Muni Shree Shanti Sagar JI Maharaj- Vidhyasagar Sant

 मुनिश्री शान्तिसागर जी महाराज

IMG-20140813-WA0015

 

मुनिश्री शान्तिसागर जी महाराज जिनका जैसा नाम था वैसी जिनकी दिनचर्या होती और अपनेआवश्यक और गुरु आज्ञा में सदा समर्पित रहे और
गुरुचरण की शरण में रत्नत्रय की आराधना के साथ हुआ ऐसे मुनिराज का संक्षिप्त परिचय-
पूर्व नाम-ब्र श्री आनंद जी जैन
पिता -श्री रघुनंदन जी जैन
माता-श्रीमती कुसुम बाई जी जैन
जन्म-1/10/1973 ललितपुर उत्तरप्रदेश में
शिक्षा-12वीं उत्तर माध्यमा एन डी जैन दर्शन से
सिद्धांत रत्न शास्त्री
ब्र व्रत-20/2/1990 नरसिंहपुर पंचकल्याणक के
दौरान तपकल्याणक के दिन
गुरु-प पू आचार्य श्री विद्यासागरजी जी महाराज
मुनि दीक्षा-22/4/1999 गुरुवार बैशाख शुक्ल- सप्तमी के दिन सिद्धोदय सिद्ध क्षेत्र नेमावर जी जिला-देवास म प्र में हुई थी ।
समाधि– आज 13/8/2014 प्रातःकाल 8-30

शौचक्रिया को जाते पैर फिसलने गड्ढे गिरने आकस्मिक समाधि गुरु चरणों में हुई है, पूज्य मुनि श्री जी को चोट लगते ही गुरूजी के पास लाया गया गुरूजी की पूजन चल रही थी,
पूजन के बीच से ही गुरूजी उठ कर शांतिसागर जी के पास गये, उनको संबोधा और उन्होने सलेख्ना व्रत लेकर समस्त आहार आदि का त्याग कर गुरूमुख से णमोकार मंत्र सुनते हुये देवलोक गमन किया .

ऐसे शान्ति मूर्ति मुनिश्री को बारम्बार नमोस्तु नमोस्तु नमोस्त

 

Download Android App Download iOS App